X

Pubg Mobile को भारत में बेन क्यों नहीं किया गया। tiktok तो हो गया बेन

किन कारणों से नहीं कर सकते pubg Mobile को ben

दोस्तो आप में से सभी को पता होगा कि भारत सरकार ने चीन के अंदर बने 59 एप्लीकेशन को पूरी तरह से बैन कर दिया है। इस बेन  के कई कारण बताए जा रहे हैं लेकिन मुख्य रूप से जो कारण है वह युवाओं की बर्बादी होना। भारत देश के बहुत सारे युवा और बहुत सारे शिक्षित युवा बेरोजगारी में बढ़ते जा रहे हैं। यहां तक कि कुछ हुआ तो टिक टॉक को अपना कैरियर समझ बैठे हैं और टिक टॉक पर अपने कुछ फॉलोवर्स लिए गंदी गंदी हरकतें करते हैं तो इन सारी चीजों से उठकर भारत की सरकार ने यह कदम उठाया।

लेकिन जो अधिकारिक रूप से बयान साझा किया गया है, उसके अंदर कहा गया है कि भारत के अंदर जितनी भी चाइनीस प्रोडक्ट्स और चाइनीस एप्लीकेशंस है, उनके अंदर डाटा चोरी के लिए जो आरोप लगे हैं, उनकी पुष्टि हो गई है। यानी कि चीन की जितने भी एप्लीकेशन है, वह सारी बेन होनी चाहिए। ये एप्लीकेशन डाटा चोरी करती है और दूसरी कंपनियों को वोट डाटा मुहैया कराती है।

आपका डाटा सुरक्षित नहीं है !

यूजर का डाटा किसी भी प्रकार से सुरक्षित नहीं है। यूजर्स के फोटोस, म्यूजिक और वीडियोस किसी और कंपनी को प्रोवाइड किए जाते हैं और यूजर्स का फायदा उठाया जाता है। कई एप्लीकेशन तो यूजर के बैंक अकाउंट डिटेल भी ले लेती है और उनसे  कई सारे फ्रॉड करती है जिसकी वजह से भारत सरकार को यह कदम उठाना पड़ा है।

लेकिन अब बात आती है कि क्यों पबजी मोबाइल को बेन नहीं किया गया। टिक टॉक जैसी कई एप्लीकेशंस को तो बैन कर दिया गया है परंतु पब जी मोबाइल को बेन नहीं किया गया है। इसकी मुख्य वजह यह है कि पब जी मोबाइल पूरी तरह से चीन की नहीं है।

Pubg ko साऊथ कोरिआ में बनाया गया है

पबजी मोबाइल एप्लीकेशंस को साउथ कोरिया के अंदर बनाया गया है और tencent कम्पनी ने  थोड़ा बहुत इन्वेस्टमेंट किया है। लेकिन गेम जैसे ही आप pubg खोलकर देखोगे तो आपको tencent मोबाइल नाम तो दिखेगा। यानि  की tencent की जो कंपनी है गेमिंग की उस कंपनी ने ही पबजी मोबाइल को बनाया है। यह कहा गया है आधिकारिक रूप से, लेकिन साउथ कोरिया में बनी एप्लीकेशन पूरी तरह से चाइनीस नहीं है और किसी भी प्रकार का डाटा चोरी नहीं करती है। इस वजह से पब जी मोबाइल को बैन नहीं किया गया है।

लेकिन वास्तविक बात थोड़ी अलग है क्योंकि टिक तोक,  विगो वीडियो और लाइक जैसी एप्लीकेशंस को बैन करने के बाद अब सब लोगों की निगाहें पब्जी के ऊपर है क्योंकि भारत के लोगों ने चीन के किसी भी सामान को बहिष्कार करने का सोच लिया तो फिर पब्जी को बैन करना क्यों उचित नहीं है क्योंकि पब्जी भी उन्हीं एप्लीकेशंस में से एक है जो चीन के अंदर बनी है।

चीन में भी बेन है Pubg Mobile गेम

हालांकि चीन के अंदर पब्जी का पूरा पूरा निवेश नहीं है। और तो और चीन के अंदर भी पबजी मोबाइल एप्लीकेशन को पूरी तरह से बैन किया हुआ है तो फिर कचरे जैसी चीज को हमारे देश के अंदर क्यों यूज़ कर रहे हैं, लेकिन उसका बड़ा कारण है कि पब जी मोबाइल के अंदर बहुत सारा मनोरंजन होता है और उसके लेवल की बहुत सारी गेम्स है तो हमे उसका विकल्प ढूंढने की जरूरत नहीं है क्योंकि वैसे ही फ्री फायर और बहुत सारे गेम अवेलेबल है। प्ले स्टोर पर उनको खेलकर पब्जी की जगह पूरी कर सकते हैं।

युवाओं को चीन की चालाकी को समझना होगा

लेकिन हमारे देश का युवा जो है, फ्री फायर भी खेलता है और पब्जी भी खेलता है लेकिन पब्जी को अन इंस्टॉल करना अभी तक किसी के दिमाग में नहीं आया। अगर सरकार कोई कदम उठाएं कि पबजी मोबाइल को भी चीन के अंदर तो बैन किया गया है, लेकिन भारत के अंदर भी बैन करना जरूरी है तो फिर सरकार की वाहवाही होकर ही रहेगी क्योंकि इस भारत सरकार ने बहुत सारे ऐसे कठोर निर्णय लिए हैं जो हर देशवासी  के लिए बहुत ही मुश्किल होता है क्योंकि चीन और भारत के बीच व्यापारिक रिश्ते बहुत ही मजबूत है।

भारत चीन के व्यापारिक रिश्ते है काफ़ी मजबूत

भारत चीन से बहुत सारा माल सामान इंपोर्ट करता है और एक्सपोर्ट भी करता है। चीन भी भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स और लेदर जैसे कई चीजें एक्सपोर्ट करता है। काफी सारा पैसा भी कमाता है लेकिन पब जी मोबाइल को बैन करने की आवाज  अब चारों तरफ से उठ रही है क्योंकि कैम स्केनर जैसी बड़ी एप्लीकेशन को भी बैन कर दिया गया तो फिर पब्जी क्या चीज है तो इसी तरह से बहुत सारे रीजन से जो पब्जी को बैंन  करने के लिए उपयोगी है तो आपको यह पोस्ट कैसी लगी। हमें कमेंट में जरूर बताना।

मित्रो अगर आप भी देशप्रेम की भावना को उजागर करना चाहते हो तो pubg ना खेले.